"सदस्य चर्चा:V.narsikar" च्या विविध आवृत्यांमधील फरक

Jump to navigation Jump to search
२ बाइट्सची भर घातली ,  १० वर्षांपूर्वी
नर्सिकर्जी सादर प्रणाम,
 
आप हमेशा ही मेरेलिए आदरणीय रहे है| मैंने आज जो पढ़ा उससे मै बहुत व्यथित हु| आपका नाम इन्लोगेके साथ जोड़ाजाना और घिनोने आरोप लगाना बेहद दुखद है| इश्वर उन्हें माफ़ करे|
 
इश्वर उन्हें माफ़ करे|
 
सबको सम्मति दे भगवन. . . लकी ०४:३७, ८ नोव्हेंबर २०११ (UTC)
४०८

संपादने

दिक्चालन यादी